कल्कि नगरी सम्भल में आपका स्वागत है ।             कल्कि नगरी सम्भल में आपका स्वागत है ।             कल्कि नगरी सम्भल में आपका स्वागत है ।
     
     
  युगावतार भगवान श्री कल्कि  
  सम्भल: भगवान के निष्कलंक अवतार की जन्म भूमि  
  भगवान के अवतार का विधान और श्री कल्कि भक्ति  
  श्री कल्कि वाणी  
  श्री कल्कि सेना (निष्कलंक दल) - एक परिचय  
  श्री कल्कि नाम की क्रान्ति  
  प्राचीन श्री कल्कि विष्णु मन्दिर - सम्भल  
  श्री कल्कि जयन्ती महोत्सव - सम्भल  
  सम्पर्क करें  
  कुलदीप कुमार गुप्ता राद्गटृीय अध्यक्ष श्री कल्कि सेना ; निद्गकलंक दल  
 
कल्कि महामंत्र् यहॉ से आरम्भ और समाप्त
करें
 
     
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 

       
       
बेखबर जाग जरा
       
 
कल्कि सेना
 
       
आरती भजन अमृत
       
लगे रहो
 
       
चेतेरो भाई
       
       
श्री कल्कि महामंत्र
 
हे कल्कि प्यारे
       
       
जहा पे कल्कि नाम उदय
       
       
श्री कल्कि को भोग
       
       
निष्कलंक नहीं कलंक तुमको
       
       
छुपे हो कहाॅ
       
       
श्री कल्कि चालीसा
       
       
श्री कल्कि आरती
       
       
प्रभु रण में तुम्हें
       
       
कल्कि प्यारे का जिसने
       
       
डोल उठी पापों से धरती
       
       
दुखों भरी पुकार है
       
       
रट लो भाईयों कल्कि नाम
       
       
बेड़ा पड़ा बीच मझधार
       
       
सुन लो पुकार प्रभु
       
       
नक्शा बदल देने को
       
       
कल्कि पद्मानाथ जब सिंहासन
       
       
म्ना तेरी बन जायेगी
       
       
प्रकाशन अधिकृत © 2011 कल्कि सेना
टैकअस्ट्रम द्वारा विकसित